डियो,स्प्रे,सेण्ट की शौक़ीन है तो ये ख़बर आपके लिए है , अवश्य पढ़ें |

इसमे खतरनाक ज़हर peg (poly ethyl glycolate ) मिलाया जाने लगा है , लगभग पन्द्रह बीस साल पहले peg डीएनए ज़हर के रूप में बड़े बड़े जेनेटिक रिसर्च लैबो में उपयोग होता था और आज भी होता है बैक्टेरिया और वाइरस के डीएनए में म्युटेशन के लिए , यह आपके डीएनए में गड़बड़ी (म्युटेशन) उत्पन्न कर अनुवांशिक या हेरिडेटरी रोग पैदा करता है और यह मानव त्वचा या चमड़े से आसानी से अंदर जा कर स्किन कैन्सर उत्पन्न करता है सावधान ।।

peg को आजकल कुछ नहाने के साबुनों और ब्यूटी क्रीमों और प्रॉडक्ट्स में भी मिलाया जाने लगा है यदि आपके साबुन पर peg लिखा है तो तुरन्त फेंक कर बिना peg का साबुन यूज़ कीजिये ।
2) एक और अत्यंत हानिकारक केमिकल है dep (di ethyl pthalate) यह केमिकल सेन्ट को हमारी त्वचा में ज्यादा देर टिकाता है या फिक्स करता है , dep एक एंडोक्राइन डिसरप्टर (endocrine disruptor)है और मादा या फीमेल हार्मोन इस्ट्रोजन को मिमिक करता है dep हमारी त्वचा से आसानी से सोख कर पुरुष हार्मोन टेस्टोस्टेरोन बनने से रोकता है

नतीजा नपुंसकता पुरुषत्व की कमी शुक्राणुओं की कमी (oligozoospermia) पुरुषो में स्तनों का उगना ( gynacomastia) आदि रोग dep को बड़े पैमाने पर bpa (bis phenol A) के साथ मिला कर प्लास्टिक बनाने में भी उपयोग किया जाता है और मिनरल वाटर की pet बोतल भी इसी pthalate (pet या poly ethyl pthalate) से बनी है खाने के रिफाइन्ड तेल को इन pet बोतलों या पाउचों में रखने खरीदने से यह pthalate बड़ी मात्रा में इन तेलो में घुल जाता है नतीजा हार्ट वाल्व रोग और नपुंसकता ।

चोर की दाढ़ी में तिनका ..आपने गौर किया होगा इन सेंटो को सीधे शरीर पर स्प्रे किया जाना चाहिए ऐसा दिखाया जाता है कपड़ो पर नही ताकि ये केमिकल सीधे चमड़े से सोख लिए जाए और कुछ दिनों के निरन्तर उपयोग से .. *पार्टी परिन्दा नही नपुंसक हिजड़ा बन जाए*
अब सबसे बड़ा यक्ष प्रश्न यह है के इन हानिकारक केमिकलों को क्यो उपयोग किया जा रहा है ? इनकी जगह आसानी से दूसरे सेफ नेचरल ऑयल को फ्रेगरेंस फिक्सिंग के लिए उपयोग किया जा सकता है । उत्तर जानकर हैरान हो जाएंगे ..यह एक अंतरराष्ट्रीय षड्यंत्र या साजिश है देश के युवावर्ग को नपुंसक या हिजड़ा और गे ट्रान्सजेन्डर बनाने के लिए ताकि जनसंख्या नियंत्रण (population control) किया जा सके

लेखक : नरेश आर्य ( MSc Microbiology +csir net) watsapp number 9440594880 facebook.com/saffronthinktanks

Check Also

जानिये कैसे ? कोक-पेप्सी कैसे सच मे टॉइलेट क्लीनर है ? वैज्ञानिक तथ्य जरूर पढ़ें । Rajiv dixit

भारत मे जो सबसे ज्यादा विदेशी कंपनिया काम कर रही हैं वो अमेरिका से आई …