Home / Rajiv Dixit All Post / लाखों की JOB छोड़ गन्ने का रस बेच रहे हैं ये 4 MBA Students । पढ़िये पूरी कहानी ।

लाखों की JOB छोड़ गन्ने का रस बेच रहे हैं ये 4 MBA Students । पढ़िये पूरी कहानी ।

कोई काम छोटा-बड़ा नहीं होता, इन चार एमबीए छात्रों ने इस मिसाल को सच कर दिखाया। बड़े इंस्टीट्यूट से एमबीए करने के बाद लाखों का पैकेज छोड़कर आए रायपुर के कुछ युवाओं ने गन्ना रस की दुकान खोली। इस दुकान का ब्रांड नेम गन्ना वाला कैफे रखा जो शहर में बहुत लोकप्रिय हुआ।

मिलिए गन्नेवालों से

संदीप जैन, विकास खन्ना, अमित अग्रवाल और अंकित सरावगी ने शहर के सालेम स्कूल से पढ़ाई की इसके बाद संदीप ने आरआईटी से इंजीनियरिंग और एफएसएम दिल्ली से एमबीए किया फिर छत्तीसगढ़ की एक इंडस्ट्री में जॉब करने लगे। विकास ने तापनी से एमबीए करने के बाद यूएसए से सीएफए का कोर्स किया और सिटी ग्रुप में इनवेस्टमेंट एनालिसिस की जॉब लग गई। अंकित ने इंदौर से एमबीए किया और रोहा डाइकैम मुंबई में जॉब लग गई। सिंबॉयसिस से एमबीए करने के बाद अमित ने जेपी मोर्गन में एनालिस्ट की तरह जॉब किया।

नहीं मिला जॉब सैटिसफेक्शन, तो आया कुछ नया करने का ख्‍याल

लाखों का पैकेज होने के बाद भी जॉब में सैटिसफेक्शन नहीं मिलने की वजह से चारों दोस्त रायपुर लौट आए और फैमिली बिजनेस करने की सोची। लेकिन तभी उनके मन में कुछ नया और अलग करने का ख्याल आया। फूडी होने की वजह से चारों ने इसी क्षेत्र में काम करने की सोची और अचानक गन्ना रस का आइडिया क्लिक कर गया और रायपुर में अपनी सेविंग से आधुनिक गन्ना रस की दुकान खोल ली।

दिनभर में 600 से अधिक ग्‍लास सेल

दुकान में पर सुबह से लेकर रात तक इनके गन्ना कैफे में लोगों की भीड़ लगी रहती है। दिनभर में ये लगभग 600 ग्लास गन्ना रस बेच देते हैं। इनका मानना है कि गन्ना रस का स्वाद सभी को पसंद है, लेकिन ठेलों में साफ सफाई नहीं होने की वजह से लोग इसे पीने से कतराने लगे थे। लेकिन आधुनिक मशीन से हाईजीन का ख्याल रखकर निकाला गया रस लोगों को इतना पसंद आने लगा, कि बच्चे और यंगस्टर्स भी सॉफ्ट ड्रिंक की बजाए गन्ना रस पीने लगे। तीन बार धोकर गन्ना रस निकालने के साथ ही ये गन्ने में बर्फ डालने की बजाए डीप फ्रीजर में रखकर गन्ने को ठंडा करते है, ताकि हाई जीन के साथ हेल्दी और प्योर जूस मिले।

चिली स्पाइस, मिंट जैसे फ्लेवर भी

गन्ना रस को लोगों के बीच लोकप्रिय बनाने के लिए चिली स्पाइस, मिंट, फ्रेश फ्रूट, लेमन जिंजर जैसे 20 से भी ज्यादा फ्लेवर यहां उपलब्ध हैं। अमित कहते हैं कि हमने अलग-अलग शहरों में गन्ना रस के फ्लेवर ट्राय करने के साथ ही इंटरनेट पर सर्च करके एक्सपेरिमेंट और ट्रायल के बाद कई फ्लेवर लांच किए हैं। गन्ना रस के साथ ही नाचोस जैसे स्नैक्स का कांबो भी यहां उपलब्ध है।

comments

Check Also

जानिये: भारत में सबसे पहले कैसे हुई थी कागज की खोज ! Rajiv Dixit

कागज बनाना पूरी दुनिया को भारत ने सिखाया | कागज बनाना सबसे पहले भारत मे …