साधकों के लिए संस्कारित सत्तू बनायें

साधकों के लिए संस्कारित सत्तू बनायें इस विधि के अनुसार बनायें

साधकों के लिए संस्कारित सत्तू की सामग्री :-

  1. सोयाबीन + चना + जौं या गेंहूँ – 1 कि. ग्राम ( गर्मी व वर्षा के मौसम में) (1:1:2: के अनुपात में)     अथवा सोयाबीन + बाजरा + मक्का (सर्दी के मोसम में)
  2. गौमूत्र (देशी) –   1.5 लीटर
  3. शुद्ध पानी / गंगाजल –     2 लीटर

साधकों के लिए संस्कारित सत्तू बनाने की विधि :-

  1. उपरोक्त धान्य मिश्रण को अच्छी तरह साफ करके गौमूत्र में डालकर 6 – 7 घंड के लिए छोड़ दे ताकि धान्य का गौमूत्र से शोधन हो जाएँ |
  2. धान्य मिश्रण और गोमूत्र से निकालकर एक बार साफ पानी या गंगाजल में (यदि उपलब्ध हो) धो लें, ताकि बाहरी सतह का गौमूत्र धुल जाय |
  3. भीगे हुए धान्य कढ़ाई में हल्की आँच में कुछ देर गरम करें तथा चलाते रहें ताकि बाहर का गीलापन सुख जाय और कुछ पक जाय | आग बंद करने के बाद गरम को ही ढककर रख दें ताकि भाप से थोड़ा और पक जाय |ध्यान देने की बात यह है कि धान्य को भूलना नहीं हैं, बल्कि कुछ पकाना है, ताकि पोषक तत्व नष्ट न हों |
  4. अब इसे 2 दिन तक धूप में अच्छी तरह सिखाएँ |
  5. अच्छी तरह सुख जाने पर पिसवा लें | बिना छाने आवश्कतानुसार 1/2, 1 किलो के वजन में पैक करें |

नोट :

  1. सत्तू का सेवन पानी में घोलकर, नमक अथवा चीनी के साथ अथवा ऐसे ही किया जा सकता है |
  2. कई धान्यों का मिश्रण होने से पोषक तत्वों की दृष्टि से यह संतुलित आहार है साथ ही गौमूत्र से संस्कारित है | अतः साधकों के लिए बहुत लाभकरी है | अनुष्ठानकाल, चंद्रायन व्रत में इसका उपयोग विशेष रूप से किया जाता है |

comments

Check Also

जैली बनाने की प्रक्रिया

अब आप जैली बनाने की प्रक्रिया के बारे में जाने जैली बनाने के लिए निम्नलिखित …

सोशल मीडिया पर राजीव भाई से जुड़ें ।

Facebook490k
Facebook
YouTube278k
Google+0