फलों की जैली बनाने की विधि

फलों की जैली बनाने की विधि को जानकर लघु उद्योग का विकास करें

अन्य फलों की जैली बनाने की भी यही विधि है I फल तैयार करने की विधि उसकी रचना के अनुसार अलग – अलग होती है I कुछ प्रमुख फलों की जैली बनाने के लिए उसको तैयार करने की विधि यहाँ दी जा रही है :-

  • सेव की जैली जैली बनाने के लिए जाति का सेव लीजिए जैसे – राइमर तथा जोनाथन I फल को धोकर छोटे – छोटे टुकड़ों में काट लीजिए I अमरुद की जैली की तरह इसकी भी जैली बना लीजिए I सेब की जैली बनाते समय निकाले हुए छिलके तथा कोर को भी जेली बनाने के काम में लाया जा सकता है I
  • पटवा की जैली इसकी लाल पंखुड़ियों में पेक्टिन तथा खट्टास उचित मात्रा में पाई जाती है I ताजे फलों को जैली बनाने के काम में लाया जाता है I इनमे प्रति किलोग्राम पंखुड़ियों के लिए लगभग 2 किलोग्राम पानी मिलाकर धीमी आँच पर पका लीजिए I 30 – 35 मिनट पका लेने के बाद कपड़े से छानकर रस अलग कर लीजिए I करौंदे में खट्टास पर्याप्त मात्रा में होती है I इसलिए इसमें खट्टास मिलाने की आवश्यकता नहीं पड़ती I रस में पेक्टिन जाँच के अनुसार चीनी मिलाकर जैली बना लीजिए I
  • अंगूर की जैली जैली बनाने के लिए अच्छी तरह से पके हुए अंगूर छाँट लीजिए तथा डंठल निकालकर धो लीजिए I फलों को चम्मच से या हाथ से कुचलकर 10 – 15 मिनट तक भगोने में पकाइए I अब इसे कपड़े से बिना ही छान लीजिए I रस को माप लीजिए तथा इसे जैली बना लीजिए I
  • अन्य फल उपरोक्त के अतिरिक्त जामुन, टमाटर, आम, अनन्नास, नारंगी, निम्बू, केला, अंजीर, बेल, लोकात, मकोय, जैसे फलों से भी जैली बनाई जा सकती है I

comments

Check Also

जैली बनाने की प्रक्रिया

अब आप जैली बनाने की प्रक्रिया के बारे में जाने जैली बनाने के लिए निम्नलिखित …

सोशल मीडिया पर राजीव भाई से जुड़ें ।

Facebook490k
Facebook
YouTube278k
Google+0