Home / Skill Swablnbn / फलों की जैली बनाने की विधि

फलों की जैली बनाने की विधि

फलों की जैली बनाने की विधि को जानकर लघु उद्योग का विकास करें

अन्य फलों की जैली बनाने की भी यही विधि है I फल तैयार करने की विधि उसकी रचना के अनुसार अलग – अलग होती है I कुछ प्रमुख फलों की जैली बनाने के लिए उसको तैयार करने की विधि यहाँ दी जा रही है :-

  • सेव की जैली जैली बनाने के लिए जाति का सेव लीजिए जैसे – राइमर तथा जोनाथन I फल को धोकर छोटे – छोटे टुकड़ों में काट लीजिए I अमरुद की जैली की तरह इसकी भी जैली बना लीजिए I सेब की जैली बनाते समय निकाले हुए छिलके तथा कोर को भी जेली बनाने के काम में लाया जा सकता है I
  • पटवा की जैली इसकी लाल पंखुड़ियों में पेक्टिन तथा खट्टास उचित मात्रा में पाई जाती है I ताजे फलों को जैली बनाने के काम में लाया जाता है I इनमे प्रति किलोग्राम पंखुड़ियों के लिए लगभग 2 किलोग्राम पानी मिलाकर धीमी आँच पर पका लीजिए I 30 – 35 मिनट पका लेने के बाद कपड़े से छानकर रस अलग कर लीजिए I करौंदे में खट्टास पर्याप्त मात्रा में होती है I इसलिए इसमें खट्टास मिलाने की आवश्यकता नहीं पड़ती I रस में पेक्टिन जाँच के अनुसार चीनी मिलाकर जैली बना लीजिए I
  • अंगूर की जैली जैली बनाने के लिए अच्छी तरह से पके हुए अंगूर छाँट लीजिए तथा डंठल निकालकर धो लीजिए I फलों को चम्मच से या हाथ से कुचलकर 10 – 15 मिनट तक भगोने में पकाइए I अब इसे कपड़े से बिना ही छान लीजिए I रस को माप लीजिए तथा इसे जैली बना लीजिए I
  • अन्य फल उपरोक्त के अतिरिक्त जामुन, टमाटर, आम, अनन्नास, नारंगी, निम्बू, केला, अंजीर, बेल, लोकात, मकोय, जैसे फलों से भी जैली बनाई जा सकती है I

comments

Check Also

सरस्वती पंचक बनायें

सरस्वती पंचक बनायें (परम पूज्य गुरुदेव पं० श्रीराम शर्मा आचार्य जी द्वारा प्रतिपादित) सरस्वती पंचक …